सीएमएस में अंतर्राष्ट्रीय मुख्य न्यायाधीश का सम्मेलन शुरू, 20 नवम्बर तक चलेगा

लखनऊ. सिटी मोन्टेसरी स्कूल द्वारा आयोजित ‘विश्व के मुख्य न्यायाधीशों के 19वें अन्तर्राष्ट्रीय सम्मेलन’ के तीसरे दिन का उद्घाटन आज प्रातः प्रदेश के कानून एवं न्यायमंत्री बृजेश पाठक ने दीप प्रज्वलित कर किया।

समारोह की अध्यक्षता तुवालू के गर्वनर-जनरल सर इकोबा टी. इटालेली ने की। सम्मेलन का शुभारम्भ सीएमएस राजेन्द्र नगर (प्रथम कैम्पस) के छात्रों द्वारा प्रस्तुत स्कूल प्रार्थना ‘आई बियर विटनेस ओ माई गाड’ से हुआ तथापि सीएमएस छात्रों ने विश्व के ढाई अरब बच्चों का प्रतिनिधित्व करते हुए जोरदार शब्दों में अपनी अपील प्रस्तुत करते हुए मानवाधिकारों एवं एकता, शान्ति व न्याय पर आधारित विश्व व्यवस्था की मांग की। इस अन्तर्राष्ट्रीय सम्मेलन में प्रतिभाग कर रहे 71 देशों के प्रधानमंत्री, राष्ट्रपति, गवर्नर-जनरल, पार्लियामेन्ट के स्पीकर, न्यायमंत्री, इंटरनेशनल कोर्ट के न्यायाधीश, विश्व प्रसिद्ध शान्ति संगठनों के प्रमुखों समेत 370 से अधिक मुख्य न्यायाधीशों, न्यायाधीशों व कानूनविद ने छात्रों की अपील का पुरजोर समर्थन किया।

विदित हो कि विश्व के मुख्य न्यायाधीशों का यह अन्तर्राष्ट्रीय सम्मेलन 16 से 20 नवम्बर तक सीएमएस कानपुर रोड ऑडिटोरियम में आयोजित किया जा रहा है। इस ऐतिहासिक आयोजन में सीएमएस कानपुर रोड कैम्पस का सम्पूर्ण परिसर विभिन्न देशों के मुख्य न्यायाधीशों, उच्चतम न्यायालय के न्यायमूर्तियों, कानूनविदों, शान्ति प्रचारकों व अन्य जानी-मानी हस्तियों की उपस्थिति से जगमगा रहा है और न्यायविदों व कानूनविदों ने की चर्चा परिचर्चा की गूंज विश्व के कोने-कोने में पहुंच रही है।

अन्तर्राष्ट्रीय मुख्य न्यायाधीश सम्मेलन के तीसरे दिन के उद्घाटन समारोह में मुख्य अतिथि बृजेश पाठक, कानून एवं न्यायमंत्री, उत्तर प्रदेश ने कहा कि मुझे विश्वास है कि यह सम्मेलन विश्व के देशों को नई विश्व व्यवस्था के मुकाम पर पहुँचायेगा। मैं डॉ. जगदीश गांधी के प्रति आभार व्यक्त करता हूं, जिन्होंने आज की जरूरत को पहचाना और विश्व के बच्चों के सुरक्षित व सुखमय भविष्य के लिए विगत कई वर्षों से इस सम्मेलन को आयोजित कर रहे हैं।

विभिन्न देशों से पधारे न्यायाधीशों व कानूनविदों की आवाज वैश्विक शान्ति में महत्वपूर्ण भूमिका निभायेगी। समारोह की अध्यक्षता करते हुए तुवालू के गर्वनर-जनरल सर इकोबा टी. इटालेली ने कहा कि विश्व में आज सबसे बड़ी समस्यायें भुखमरी, गरीबी, अशिक्षा, आतंकवाद इत्यादि हैं। देश हथियारों पर अधिक खर्च कर रहे हैं बजाय लोगों के उत्थान पर।

Check Also

अजिंक्‍य रहाणे

3 साल बाद रहाणे ने की ऐसी बल्लेबाजी, टीम इंडिया की टेंशन दूर हुई !

डेस्क. टीम इंडिया के उपकप्‍तान अजिंक्‍य रहाणे को पिछले काफी समय से अपने खराब प्रदर्शन ...