VIDEO: दलितों-पिछड़ों के भागीदारी की लड़ाई लड़ रहे इस युवा नेता ने मचाई खलबली

रिपोर्टः फर्क इंडिया

लखनऊ. सियासत में मठाधीशी कर रहे और मुद्दों पर न बोलने की आदत वाले दलित-पिछड़ी जाति के नेताओं को इलाहाबाद यूनिवर्सिटी का एक नेता बड़ी चुनौती देने लगा है। सिविल सेवाओं में त्रिस्तरीय आरक्षण की मांग को लेकर आम आदमी की लड़ाई लड़ने वाले इस नेता को बहुत मारा गया।

कहा जाता है कि इलाहाबाद में तत्कालीन पुलिस अधिकारी रहे शैलेश कुमार यादव ने लखनऊ से एक फोन जाने के बाद जिन छात्रों की बड़ी ही बेरहमी से पिटाई की थी, उसमें एक युवा नेता मनोज सोशलिस्ट भी थे। इस नेता ने शैलेश यादव की हर लाठी की चोट को शरीर ही नहीं, दिल में उतार लिया। मनोज सोशलिस्ट के मिशन में आज भी ये लाठियां चर्चा का विषय रहती हैं।

आज पूरे उत्तर प्रदेश में करीब 36 बड़ी जनसभाएं और कार्यक्रम करने वाले मनोज सोशलिस्ट को लेकर राजनीतिक दल चौकन्ने हो गए हैं। हालांकि सपा और बसपा में ही नहीं, भाजपा और कांग्रेस में इस युवा नेता की चर्चा होने लगी है। हाशिए के तबके की बात करने वाले इस युवा नेता ने सियासी मलाई चाट रहे दलित और पिछड़ी जाति के नेताओं में खलबली मचा दी है।

 

Check Also

अजिंक्‍य रहाणे

3 साल बाद रहाणे ने की ऐसी बल्लेबाजी, टीम इंडिया की टेंशन दूर हुई !

डेस्क. टीम इंडिया के उपकप्‍तान अजिंक्‍य रहाणे को पिछले काफी समय से अपने खराब प्रदर्शन ...