अश्वगंधा का सेवन इन 8 लोगों को नहीं करना चाहिए, हो सकते हैं ये नुकसान

हेल्थ डेस्क. अश्वगंधा के अधिक सेवन से नुकसान भी हो सकते हैं। अश्वगंधा का अगर सही मात्रा और सही तरीके से सेवन न किया जाए तो यह नुकसान पहुंचा सकता है। सबसे पहला सवाल यह है कि अश्वगंधा की तासीर क्या होती है। तो असल में अश्वगंधा की तासीर गर्म होती है। इसलिए अधिक मात्रा में इस्तेमाल करने से यह गैस, अफरा, उलटी, दस्त, ज्यादा नींद आना जैसी समस्या पैदा कर सकता है।

अश्वगंधा का सेवन

अश्वगंधा के नुकसान

1। नींद और अश्वगंधा- अश्वगंधा में जो कम्पाउंड होते हैं वे दिमाग को एक्टिव कर देते हैं। तो ऐसे में अगर आपको नींद न आने की दिक्कत है या आप इन्सोमनिया से परेशान हैं तो रात के समय अश्वगंधा खाने से बचें यह नींद में बेचैनी या नींद न आने की समस्या दे सकता है।

2। रोगों से लड़ने की क्षमता – अश्वगंधा जहां एक तरफ कई बीमारियों से बचाने का काम करता है वहीं अश्वगंधा के ज्यादा इस्तेमाल से आपके अंदर बीमारियों से लड़ने की क्षमता भी हो सकती है। जिससे दवाओं का असर भी नहीं होता यानी रोगप्रतिरोधक क्षमता कम हो सकती है।

3। कम बीपी, शुगर और अश्वगंधा – जिन लोगों का बीपी कम होता है उन्हें अश्वगंधा लेने से बचना चाहिए। क्योंकि यह बीपी को और कम कर सकता है।

4। डायबिटीज और अश्वगंधा- डायबिटीज के रोगीयों के लिए अश्वगंधा बहुत फायदेमंद होता है, लेकिन तब जब आप डायबिटीज की दवाएं नहीं ले रही हैं। अगर आप दवाओं के साथ अश्वगंधा का इस्तेमाल कर रहते हैं तो आपके लिए यह काफी नुकसानदायक हो सकता है। वहीं ऐसे लोगों को भी अश्वगंधा नहीं लेना चाहिए जिनका शुगर लेवल को कम हो। यह लो शुगर की समस्या को और बढ़ा सकता है।

5। पेट दर्द – अश्वगंधा की पत्तियों का ज्यादा इस्तेमाल आपके पेट के लिए हानिकारक हो सकता है। इससे आपके पेट में दर्द, दस्त, उल्टियां, पेट गैस जैसी समस्यां हो सकती हैं।

6। शारीरिक तापमान- अश्वगंधा कुछ लोगों के शरीर में उल्टा रिएक्शन करता है। इससे शरीर का तापमान बढ़ जाता है, जिस कारण आपको बुखार, शरीर दर्द, हो सकता है। अगर आपको ऐसी समस्याएं हो रही हैं, तो आप अश्वगंधा के इस्तेमाल को बंद कर दें और डॉक्टर की सलाह से ही इसका सेवन करें।

7। थाइरॉयड और अश्वगंधा- थाइरॉयड आज एक आम समस्या बन गई है। अश्वगंधा थाइरॉयड हॉर्मोन के लेवल को बढ़ा सकता है। अगर थाइरॉयड के पेशेन्ट्स इसे लेते हैं तो प्रॉब्लम और बढ़ सकती है

8। गर्भवस्था और अश्वगंधा- प्रेगनेंसी एक ऐसा समय होता है जब कुछ भी खाते समय बहुत सावधानी बरतने की जरूरत होती है। गर्भावस्था में अश्वगंधा के सेवन से बचना ही बेहतरह होता है। अगर प्रेग्नेंट महिला अश्वगंधा लेती है, तो एस्ट्रोजन हॉर्मोन का लेवल बढ़ सकता है, जो ब्लीडिंग या सिरदर्द जैसी समस्याएं दे सकता है।

Check Also

अजिंक्‍य रहाणे

3 साल बाद रहाणे ने की ऐसी बल्लेबाजी, टीम इंडिया की टेंशन दूर हुई !

डेस्क. टीम इंडिया के उपकप्‍तान अजिंक्‍य रहाणे को पिछले काफी समय से अपने खराब प्रदर्शन ...