69000 शिक्षक भर्ती: शिक्षक भर्ती का नया नियम, शिक्षामित्रों की नियुक्ति का रास्ता साफ

प्रयागराज. प्राथमिक स्कूलों में 69000 सहायक शिक्षकों की भर्ती शिक्षामित्रों के लिए उम्मीद लेकर आई है। सरकार ने इसमें न्यूनतम अर्हता अंक समाप्त कर बड़ी संख्या में शिक्षामित्रों की नियुक्ति का रास्ता साफ किया है।

स्पेशन टीचर

हालांकि नए नियम को लेकर सात साल बाद अवसर पाने वाले बीएड डिग्रीधारियों में निराशा है। पिछली परीक्षा में सामान्य व ओबीसी को 45 व एससी व एसटी अभ्यर्थियों को 40 प्रतिशत अंकों पर पास किया गया था।

इस भर्ती में शिक्षामित्रों के हर सेवा वर्ष के लिए 2.5 अंक (अधिकतम 25 अंक) का अधिभार मिलेगा जो की गुणवत्ता अंक में सीधे जुड़ेगा। ऐसे में जिस शिक्षामित्र ने प्राथमिक स्तर की TET पास की है उसका सहायक शिक्षक पद पर चयन लगभग तय है। सैकड़ों शिक्षामित्र ऐसे हैं जो प्राथमिक स्तर की TET तो पास हैं लेकिन 26 मई 2018 को हुई परीक्षा में फेल हो गये थे। इस भर्ती में उन्हें अवसर मिल जाएगा।

वहीं TET उत्तीर्ण बीएड अभ्यर्थियों का कहना है कि शिक्षक भर्ती परीक्षा में निर्धारित न्यूनतम कटऑफ को हटाने से व शिक्षामित्रों को शिक्षक भर्ती में मिल रहे 25 अंक के वेटेज से शिक्षामित्रों को ही सीधा फायदा मिलेगा।

शिक्षक भर्ती परीक्षा व गुणवत्ता अंक में यदि कोई अभ्यर्थी शिक्षामित्र के बराबर अथवा कुछ अधिक अंक पाने के बावजूद 25 अंक वेटेज मिलने से शिक्षामित्रों की मेरिट अधिक हो जाएगी और बीएड अभ्यर्थी नियुक्ति से वंचित रह जाएगा।

Check Also

अजिंक्‍य रहाणे

3 साल बाद रहाणे ने की ऐसी बल्लेबाजी, टीम इंडिया की टेंशन दूर हुई !

डेस्क. टीम इंडिया के उपकप्‍तान अजिंक्‍य रहाणे को पिछले काफी समय से अपने खराब प्रदर्शन ...