फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति जैक शिराक के अकस्मित निधन की खबर सुनकर भावुक हुए पीएम मोदी कहा…

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति जैक शिराक के निधन पर शोक जताते हुए बोला कि हिंदुस्तान एक सच्चे वैश्विक राजनीतिज्ञ  मित्र के जाने से दुखी है. हिंदुस्तान ने जब 1998 में परमाणु परीक्षण किए थे, उसके बाद शिराक ने उसका समर्थन किया था. शिराक का बृहस्पतिवार को निधन हो गया. वह 86 साल के थे. उन्होंने 1995 से 2007 तक फ्रांस के राष्ट्रपति के रूप में सेवाएं दी.

प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट किया, ”जैक शिराक के निधन पर मैं गहरी संवेदनाएं जाहीर करता हूं. हिंदुस्तान एक सच्चे वैश्विक राजनीतिज्ञ के जाने से शोक में है. वह हिंदुस्तान के मित्र थे जिन्होंने हिंदुस्तान  फ्रांस के बीच रणनीतिक साझेदारी स्थापित करने  उसका निर्माण करने में निर्णायक किरदार निभाई.

भारत  फ्रांस की रणनीतिक साझेदारी जनवरी 1998 में हिंदुस्तान में शिराक की पहली यात्रा के दौरान प्रारम्भ हुई थी. वह बाद में एक बार फिर राष्ट्रपति के रूप में 2006 में हिंदुस्तान आए थे. फांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने भी देश को सम्बोधित करते हुए कहा, “हमने महान नेता को खो दिया है. हम उनसे उतना ही प्यार करते थे जितना की वो हमारे से करते थे.

गौरतलब है कि फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति जैक शिराक का गुरुवार प्रातः काल निधन हो गया. उनके पारिवारिक सूत्रों ने बताया कि श्री शिराक अपने सभी परिजनों की मौजूदगी में अंतिम सांस ली. वह 86 साल के थे  कुछ दिनों से बीमार थे.

जैक शिराक 1995 से 2007 तक फ्रांस के राष्ट्रपति रहे. उनका पहला कार्यकाल 1995 से 2002  दूसरा कार्यकाल 2002 से 2007 तक था. वह मध्यमार्गी-दक्षिणपंथी राजनेता थे. वह दो बार फ्रांस के राष्ट्रपति बने थे. वह फ्रांस के पीएम भी रहे थे. उन्होंने फ्रांस में राष्ट्रपति का कार्यकाल सात वर्ष से घटाकर पांच वर्ष कर दिया था. वह 18 वर्ष तक पेरिस के मेयर भी रहे. उनके पास प्रशासन का लंबा अनुभव था. कई तरह के करप्शन के आरोपों में घिरे रहने के बावजूद उन्हें दोबारा राष्ट्रपति चुना गया.

Check Also

भूकंप के जोरदार झटको से हिल उठा इंडोनेशिया, आपदा में 6 लोगों की मौत

इंडोनेशिया के पूर्वी मालुकु प्रांत में गुरुवार तड़के आए भूकंप से 6 लोगों की मौत ...