गंगा में गिर रहे सीवर को देख भड़के व्यापारी, जलसंस्थान और पेयजल के खिलाफ शुरू हुई नारेबाजी

हरिद्वार में विष्णुघाट पंपिंग स्टेशन के ठप होने से 24 घंटे तक गंगा में सीवर गिरता रहा। रविवार सुबह गंगा में गंदगी गिरते देख व्यापारियों का गुस्सा फूट पड़ा। नाराज व्यापारियों ने जलसंस्थान और पेयजल निगम के अधिकारियों के खिलाफ उग्र प्रदर्शन किया। मौके पर पहुंचे दोनों महकमों के इंजीनियरों को व्यापारियों को दो घंटे तक पंपिंग स्टेशन में बंधक बनाए रखा।

शनिवार को विष्णुघाट पर पंपिंग स्टेशन ने काम करना करना बंद कर दिया। इसके बाद उफनता सीवर सीधा गंगा में गिरने लगा। रविवार को व्यापारी गंगा में सीवर गिरता देख भड़क गए। व्यपारियों ने विष्णुघाट चौक पर जलसंस्थान और पेयजल के खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी। इस दौरान पंपिंग स्टेशन पहुंचे इंजीनियरों को व्यापारियों ने घेर लिया। आक्रोशित व्यापारियों ने इंजीनियरों को जमकर खरी खोटी सुनाई। प्रांतीय उद्योग व्यापार मंडल के शहर अध्यक्ष प्रदीप कालरा ने कहा कि पंपिंग स्टेशन में अपग्रेडेशन का काम होने के बाद भी सीवर कैसे उफन आया। उन्होंने कहा कि गलती विभागों की है और यात्रियों के आगे व्यपारियों को शर्मिंदा होना पड़ता है।

जलसंस्थान के जेई मुकेश सक्सेना ने बताया कि पंप ड्राई होने के चलते मोटर फुंक गई। इसलिए पंप ने काम करना बंद कर दिया। वहीं पेयजल निगम के जेई विकास सैनी ने बताया पंपिंग स्टेशन को सुचारु रूप से चलाने के लिए पांच पंप की जरूरत थी। लेकिन अपग्रेडेशन में केवल दो पंप लगे।

उन्होंने यह भी बताया कि ऑपरेटर की गलती से पंप खराब हुआ। एक पंप बंद होने से सीवर उफन गया। व्यापारी नागेश वर्मा ने कहा कि पंपिग स्टेशन में बाईपास की वैकल्पिक व्यवस्था के लिए जनरेटर मंगाया गया। लेकिन जनरेटर पहले दिन से बंद पड़ा है।

डॉ संदीप कपूर ने कहा कि दोनों विभागों में तालमेल नहीं है। कहा कि जब लोग प्रदर्शन करते हैं तो फिर सीवर गिरना कैसे रुक जाता है? उन्होंने कहा कि कांवड़ के दौरान व्यापारियों ने पंप खराब होने पर विभाग का सहयोग किया। लेकिन निर्धारित समयसीमा के बाद भी सीवर गिरता रहा।

पेयजल निगम के एई आशीष चौहान ने मौके पर पहुंच कर व्यापारियों को सोमवार तक मोटर की वैकल्पिक व्यवस्था और जनरेटर को चलाने का आश्वासन दिया। एई ने एक सप्ताह के अंदर पंप को बदलने और तीन पंपों के लिए प्रस्ताव भेजने की बात भी कही। व्यापारियों ने सोमवार को गंगा में सीवर गिरने पर फिर से अधिकारियों घेराव और अनिश्चितकालीन के लिए बंधक बनाने की चेतावनी दी। प्रदर्शन में नीरज कपूर, कमल पहवा, रतन सिंह, रवि अरोड़ा, रवि भुटानी, बॉबी सहगल, मनोज कुमार, दीपक, विवेक भारद्वाज आदि व्यापारी शामिल रहे।

Check Also

उत्तराखंड में पंचायतों को सशक्त करने के बड़े-बड़े दावों के बीच प्रदेश में संविधान के जरिए किया गया ये…

पंचायतों को सशक्त करने के बड़े-बड़े दावों के बीच प्रदेश में संविधान के जरिए सौंपे ...