उत्तराखंड पंचायत चुनाव को लेकर भारतीय जनता पार्टी आज कर सकती है उम्मीदवारों की घोषणा

पंचायत चुनाव को लेकर भारतीय जनता पार्टी  से बड़ी खबर है. पार्टी आज शाम तक जिला पंचायत सदस्य पदों पर अपने उम्मीदवारों  की घोषणा कर सकती है.

ज़िला पंचायत सदस्य प्रत्याशियों के चयन को लेकर पार्टी की बीजापुर गेस्ट हाउस में अहम बैठक चल रही है. बैठक में मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत , भाजपा प्रदेश अध्यक्ष अजय भट्ट के साथ तीनों महामंत्री, चुनाव संचालन समिति और जिलों में कैंडिडेट के चयन को लेकर बनाई गई चयन समितियों के 3 दर्जन से अधिक पदाधिकारी मौजूद हैं. माना जा रहा है कि दोपहर बाद पार्टी जिला पंचायत सदस्य पदों के लिए पार्टी प्रत्याशियों की पहली सूची जारी कर सकती है.

दावेदारों पर मंथन

बता दें कि हरिद्वार छोड़ प्रदेश के 12 जिलों में पंचायत चुनाव की प्रक्रिया चल रही है. यहां 357 जिला पंचायत सदस्य पदों के लिए कैंडिडेट तय किए जाने हैं. बीजेपी ने इस मामले में कांग्रेस समेत दूसरी पार्टियों से बढ़त ले ली थी और उच्च शिक्षा राज्य मंत्री धन सिंह रावत के नेतृत्व में प्रत्याशियों के चयन के लिए एक पांच सदस्यीय समिति का गठन कर दिया था.

इसके अलावा हर ज़िले में पार्टी पदाधिकारी ने कार्यकर्ताओं से बात कर पैनल तैयार किए हैं. आज सभी सेलेक्शन कमेटी के सदस्य आलाकमान के सामने संभावित प्रत्याशियों की सूची रख रहे हैं जिनमें से पार्टी प्रत्याशियों के नाम तय किए जाने हैं.

बीजेपी महामंत्री खजानदास ने बताया कि ज़्यादातर जगहों पर उम्मीदवारों के नाम आज शाम तक तय कर लिए जाएंगे. कुछ जगह ऐसी हो सकती हैं जहां एक से ज़्यादा प्रत्याशी दमदार हों या कोई पार्टी नेता चुनाव लड़ने पर अड़ जाए. ऐसी जगहों पर फिर से विचार किया जाएगा और उसके लिए आगे किसी दिन मीटिंग रखी जाएगी.

बता दें कि हरिद्वार को छोड़कर बाकी 12 ज़िलों के लिए 11 से 16 अक्टूबर तक मतदान होना है और 21 अक्टूबर को मतगणना होगी. ग्राम पंचायत सदस्य, ग्राम प्रधान, क्षेत्र पंचायत सदस्य, जिला पंचायत सदस्य पदों के लिए तीन चरणों में चुनाव कराए जाएंगे.

नामांकन की तिथि 20 सितंबर से 24 सितंबर
नामांकन पत्रों की जांच 25 सितंबर से 27 सितंबर
नाम वापसी की तिथि 28 सितंबर
निर्वाचन प्रतीक आवंटन की तिथि 29 सितंबर 4 अक्टूबर और 9 अक्टूबर
मतदान (3 चरणों में) 6 अक्टूबर 11 अक्टूबर और 16 अक्टूबर
मतगणना 21 अक्टूबर

Check Also

उत्तराखंड में पंचायतों को सशक्त करने के बड़े-बड़े दावों के बीच प्रदेश में संविधान के जरिए किया गया ये…

पंचायतों को सशक्त करने के बड़े-बड़े दावों के बीच प्रदेश में संविधान के जरिए सौंपे ...