बीते सप्ताह गिरावट के साथ बंद हुआ शेयर बाज़ार, सेंसेक्स व निफ्टी इतने अंको पर थमा

 बीते हफ्ते सेंसेक्स  निफ्टी दोनों लगातार दूसरे सप्ताह गिरावट के साथ बंद हुए. निफ्टी जहां 11,000 के मनोवैज्ञानिक स्तर से नीचे बंद हुआ. वहीं, सेंसेक्स 37,000 के मनोवैज्ञानिक स्तर से नीचे बंद हुआ. साप्ताहिक आधार पर, सेंसेक्स 649.17 अंकों या 1.74 प्रतिशत की गिरावट के साथ 36,701.16 पर बंद हुआ, जबकि निफ्टी 218.45 अंकों या 1.98 प्रतिशत की गिरावट के साथ 10,829.35 पर बंद हुआ. बीएसई के मिडकैप सूचकांक में 288.82 अंकों या 2.14 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई  यह 13,202.08 पर बंद हुआ, जबकि स्मॉलकैप सूचकांक 398.48 अंकों या 3.17 प्रतिशत की गिरावट के साथ 12,186.11 पर बंद हुआ.

 

कुछ इस तरह का रहा मार्केट 
सोमवार को सेंसेक्स 52.16 अंकों या 0.14 प्रतिशत तेजी के साथ 37,402.49 पर बंद हुआ, जबकि निफ्टी 6.10 अंकों या 0.06 प्रतिशत की तेजी के साथ 11,053.90 पर बंद हुआ.

मंगलवार को शेयर बाजारों में गिरावट रही  सेंसेक्स 74.48 अंकों या 0.20 प्रतिशत की गिरावट के साथ 37,328.01 पर बंद हुआ. वहीं, निफ्टी 36.90 अंकों या 0.33 प्रतिशत की गिरावट के साथ 11,017 पर बंद हुआ.

बुधवार को वैश्विक बाजारों में बिकवाली के दवाब में सेंसेक्स 267.64 अंकों या 0.72 प्रतिशत की गिरावट के साथ 37,060.37 पर बंद हुआ, जबकि निफ्टी 98.30 अंकों या 0.89 प्रतिशत की गिरावट के साथ 10,918.70 पर बंद हुआ.

गुरुवार को लगातार तीसरे दिन शेयर बाजारों में गिरावट रही. सेंसेक्स 587.44 अंकों या 1.59 प्रतिशत की गिरावट के साथ 36,472.93 पर बंद हुआ, जबकि निफ्टी 180.95 अंकों या 1.67 प्रतिशत की गिरावट के साथ 10,737.75 पर बंद हुआ.

शुक्रवार को सेंसेक्स 228.23 अंकों या 0.63 प्रतिशत की तेजी के साथ 37,701.48 पर बंद हुआ, जबकि निफ्टी 88 अंकों या 0.82 प्रतिशत की तेजी के साथ 10,829 पर बंद हुआ.

तेजी  गिरावट वाले शेयर 
बीते हफ्ते सेंसेक्स के तेजी वाले शेयरों में टीसीएस (3.88 फीसदी), टेक महिंद्रा (3.65 फीसदी), इंफोसिस (3.53 फीसदी), सन फार्मा (3.12 फीसदी)  एचसीएल टेक (2.35 फीसदी) प्रमुख रहे. वहीं सेंसेक्स के गिरावट वाले शेयरों में यस बैंक (25.42 फीसदी), इंडसइंड बैंक (8.89 फीसदी), टाटा मोटर्स (8.29 फीसदी), टाटा मोटर्स डीवीआर (7.43 फीसदी)  स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (6.42 फीसदी) प्रमुख रहे.

40 बेसिस अंकों की कटौती कर सकता है आरबीआई
आर्थिक मोर्चे पर, फिच सोल्यूशंस ने बोला कि आरबीआई (आरबीआई) द्वारा चालू वित्त साल के अंत तक ब्याज दरों में 40 आधार अंकों की कटौती की उम्मीद है, क्योंकि मौद्रिक नीति में अब तक जो राहत दी गई है, उससे आर्थिक विकास को अधिक बढ़ावा नहीं मिला है.

निर्मला सीतारमण का ब्यान 
केंद्रीय वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने शुक्रवार को बोला कि हिंदुस्तान अभी भी संसार में सबसे तेजी से वृद्धि करने वाली अर्थव्यवस्था बनी हुई है. उन्होंने यह बात अर्थव्यवस्था की बिगड़ी हालत पर आयोजित एक प्रेस बातचीत को संबोधित करते हुए कही. उन्होंने बोला कि वैश्विक विकास दर भी नीचे जा रही है  अब संसार की संशोधित विकास दर 3.2 प्रतिशतहै. हिंदुस्तान की जीडीपी (सकल घरेलू उत्पाद) की विकास दर अभी भी दूसरों से ज्यादा है. सीतारमण ने बोला कि वैश्विक व्यापार में उतार-चढ़ाव का दौर जारी है, जिसका प्रभाव देश की अर्थव्यवस्था पर पड़ रहा है.

विदेशी मोर्चे पर बाजार
विदेशी मोर्चे पर, लगातार चौथे महीने जापान के विनिर्माण क्षेत्र में अगस्त में गिरावट दर्ज की गई. जिबुन बैंक फ्लैश जापान मैनुफैक्चरिंग पर्चेजिंग मैनेजर्स इंडेक्स (पीएमआई) अगस्त में 49.4 रही, जो कि 50 के लक्ष्य पीछे रही. इस सूचकांक में 50 से कम का अंक मंदी  50 से ऊपर का अंक तेजी का इशारा है.

Check Also

उत्तराखंड के दो प्रमुख राजनीतिक दलों के बीच शुरु हो गई ज़ुबानी जंग और तगड़ा घमासान

देहरादून के पंचायत चुनावों   की अधिसूचना जारी होते ही उत्तराखंड के दो प्रमुख राजनीतिक दलों ...