जाने क्यो बनाया जाता हैं ज्येष्ठ महा का बड़ा मंगल।

लखनऊ में हर साल ज्येष्ठ महा में ज़ोर-शोर के साथ एक उत्सव की तरह मनाया जाता है ये बड़ा मंगल। लखनऊ में बड़े मंगल में जगह-जगह लोग भंडारा लगाते हैं और भूखे लोगों को खाना खीलाते हैं, और भगवान बजरंग बली की पूजा अर्चना करेते हैं। आज जेठ मास का इस साल का पहला बड़ा मंगल है। यह त्यौहार मुख्य रूप से लखनऊ में मनाया जाता है। लखनऊ में जगह-जगह भंडारे लगे हुए हैं और बजरंग बली के जयकारे लग रहे हैं। बड़े मंगल की तैयारियां एक महीने से चल रही थी। अलीगंज के हनुमान मंदिर में करीब 500 किलो फूलों से बजरंग बली का ऋ्ंगार किया गया। वहीं अमीनाबाद में हनुमान जी को 21 किलो बेसन के लड्डू का भोग लगाया गया। रात 10 बजे सुंदरकांड का आयोजन होगा।

 

अलीगंज के पुराने हनुमान मंदिर, मेडिकल कॉलेज चौराहा के छांछी कुआं हनुमान मंदिर, हजरतगंज के हनुमान मंदिर,  चारबाग के त्रिलोचन हनुमान मन्दिर, रकाबगंज चौराहा में मौजूद हनुमान मन्दिर, इंदिरानगर के हनुमान मंदिर, पक्कापुल स्थित लेटे हुए हनुमान मंदिर, कुर्सी रोड व बीरबल साहनी मार्ग के पंचमुखी हनुमान मंदिर, और दुबग्गा के बरदानी हनुमान मंदिर में भी हनुमान भक्तों की भारी भीड़ जुटी है।

जाने क्यो इस बड़े मंगल के दिन लखनऊ ही क्यो रमा रहता है। एक बार लखनऊ के नवाब शाहदत अली खान काफी बीमार हो गयें, उन्होने फिर भगवान बजरंग बलि से मन्नत मांगी अपने ठीक होने कि और वो पूरी तरह स्वस्थय हो गए, उन्होने तब एक भव्य मंदिर का निर्माण करवाया। और पूजा अर्चना भी की। एक और कहानी कही जाती है मंगल पर जो प्राचीन कहानियो से जुड़ी हुई हैं, त्रेता युग में जब भगवान भू लोक छोड़कर जा रहे थे उस वक़्त भगवान राम ने बजरंगबली से कहा तुम कल युग के अंत तक यहाँ निवास करोगे, कहा जाता है वें आज भी यहाँ इस धरती मौजूद हैं।

 

Check Also

वाह रे वाह! बीच सड़क पर हिंदू और मुसलमानों का ये नाटक ज़रा देखिए तो..