रिदम डांस फैक्टरी ने शुरू की ऑडिशन की तैयारी..

 

लखनऊ। जब बात फ़िल्मी जगत की आती है तो  मायानगरी की बात सामने आ जाती है मगर हम बात करे अगर नवाबो के शहर लखनऊ की तो यंहा भी बच्चो में जोश की कमी नज़र नहीं आती जबसे फ़िल्मी दुनिया ने लखनऊ शहर में अपना कदम रखना शुरू किया है| तबसे इस शहर में आये दिन ऑडिशन हुआ करते है| रिदम डांस फैक्ट्री के संचालक सागर शान जो खुद वर्ष 2008 में बूगी बूगी में अपना जलवा बिखेर चुके है.अब लखनऊ के हज़रात गंज में बच्चो को डांस,और एक्टिंग सिखाते है|
“सागर शान” कहते है की हमारे यंहा जो भी आता है हम उसे निराश नहीं करते वो चाहे किसी गरीब घर से ही क्यों न हो क्योंकि कला को पहचानना और उसे सही मुकाम तक भेजना हमारा प्रयास रहता है| आज लगभग 6 वर्षो से हमारा संस्थान इसी कड़ी में कार्य कर रहा है| सागर ने अपने शुरआती दौर को साझा करते हुए बताया की में कभी जीत और हार के लिए अपने हुनर को पेश नहीं करता जरुरी नहीं की जितने वाले हर उस सख्स को उसका मुकाम मिले।जो जितना प्रतिभाशाली होगा वो उतना चमकेगा|
डांस एक कला है जो होती सभी के अंदर है मगर दिखती नहीं| आज सोसल मिडिया का समय है लोग अपनी प्रतिभा दिखने से बाध्य नहीं| संवाददाता ने सागर शान से सवाल किया की जब आप वर्ष 2008 में वूगी वूगी में अपना हुनर दिखा चुके है तो आपने मुम्बई में अपनी किश्मत क्यों नहीं आज़माई| हँसते हुए सागर शान ने कहा ऐसा नहीं है| लगभग 50 से अधिक रीजनल फिल्मो में हमने कोरियोग्राफ़ी व 3 हिंदी फिल्मो में कोरियोग्राफी की है| और अब तक हमारी संसथान ने 1000 बच्चो को प्रशिक्षण दिया है जो आज प्रदेश और देश में अपना नाम कर रहे है|  की अभी हमने तैयारी करनी बंद कर दी है किरदार कभी बूढ़ा नहीं होता सही समय इंसान को सही जगह तक लेकर जाता है| जिस दिन कन्फर्म टिकट मिल जाएगा उस दिन शायद हम भी अपना सफर कर रहे होंगे| सागर शान ने बताया की पुरे उत्तर प्रदेश में हमारे बच्चो ने  अपनी कला से लोगो का दिल जीता है| व हमारी सहयोगी प्रियंका सिंह रघुवशी द्वारा कुशल प्रशिक्षण से उनको तैयार किया जाता है|

Check Also

मौत एक अटल सत्य है सभी लोगों को अंतिम सत्य का ध्यान रखते हुए कार्य करना चाहिए

प्रचलित लोक कथा के अनुसार पुराने समय में एक संत गांव से बाहर झोपड़ी बनाकर ...