इन 7 आदतों के कारण होता हैं किडनी काे नुकसान…

किडनी हमारे शरीर का एक जरूरी अंग है. इसका कार्य हमारे शरीर से विषैले पदार्थों बाहर निकाले का हाेता है. इसलिए किडनी काे स्वास्थ्य वर्धक रखना बहुत महत्वपूर्ण है. आइए जानते है उन बाताें के बारे में जाे किडनी काे नुकसान पहुंचाती हैं:-

अधिक नमक लेना
भोजन के जरिए जो नमक हम खाते हैं उसका 95 फीसदी भाग किडनी अवशोषित कर लेती है. लेकिन तय सीमा से ज्यादा नमक खाने पर गुर्दों की कार्यक्षमता बढ़ जाती है. जिससे इस अंग को नुकसान पहुंचता है.

दूषित भोजन करना
गुर्दों को बेकार करने में कुछ अन्य आदतें जैसे शराब पीना, पर्याप्त आराम न करना, सॉफ्ट ड्रिंक्स  सोडा ज्यादा लेना, देर तक भूखा रहना, तला-भुना या मसालेदार चीजें खाना, दूषित भोजन करना  मांसाहार खाना भी किडनी को दूषित करता है.

धूम्रपान-तम्बाकू की लत
ये अप्रत्यक्ष रूप से किडनी पर दबाव बनाते हैं. क्योंकि इनसे फेफड़ों  रक्त नलिकाओं में रक्त का बहाव धीमा पड़ जाता है. ऐसे में रक्त कम पहुंचने से किडनी सिकुड़ जाती हैं.

पानी कम पीना
कम मात्रा में पानी पीने से किडनी और यूरेटर में संक्रमण का खतरा अधिक हो जाता है. जिससे पोषक तत्त्वों के कण यूरिनरी ट्रैक्ट में पहुंचकर यूरिन को बाहर निकलने में बाधा उत्पन्न करते हैं. इससे किडनी में स्टोन की संभावना भी बढ़ जाती है. दिनभर में कम से कम 2 से 3 लीटर पानी पीना चाहिए.

मधुमेह में लापरवाही
मधुमेह के शिकार लगभग 30 फीसदी लोगों को किडनी से जुड़ी बीमारी हो जाती है  किडनी की बीमारी से ग्रस्त एक तिहाई लोग मधुमेह से पीडि़त हो जाते हैं. इसलिए खानपान को नियंत्रित रखना महत्वपूर्ण है.

यूरिन रोकने की आदत
रातभर में यूरेटर पूरी तरह यूरिन से भर जाता है, जिसे प्रातः काल उठते ही खाली करना महत्वपूर्ण है. लेकिन आलस्य के कारण यूरिन न जाने पर या लंबे समय तक इसे रोकने की आदत किडनी पर दबाव बढ़ा देती है. जो धीरे-धीरे हमारी यूरिन रोकने की क्षमता को समाप्त करती है.

दर्दनिवारक दवाएं
अनियंत्रित रूप से दर्दनिवारक या किसी अन्य रोग के लिए ली जाने वाली दवा किडनी पर दुष्प्रभाव छोड़ती हैं. इसलिए किसी भी तरह की दवा लेने से पहले डॉक्टरी राय जरूर लें.

Check Also

तो इसलिए धूम्रपान करने वाले व्यक्तियों का वजन कम होता है?

यदि आप धूम्रपान करने वाले हैं व आप छोड़ने की योजना बना रहे हैं, तो कोई बेहतर फैसला नहीं होने ...