18 वर्ष की किशोरी ने किया अपनी ही बेस्ट फ्रेंड का कत्ल,सामने आई हैरान कर देने वाली वजह…

अमेरिका में एक किशोरी को अपनी ही बेस्ट फ्रेंड के कत्ल की साजिश  इसे अंजाम देने के आरोप में पकड़ा गया है किशोरी को ऐसा करने के एवज में 90 लाख यूएस डॉलर मिलने वाले थे घटना के जांचकर्ताओं के अनुसार अलास्का की रहने वाला 18 वर्षीय डेनाली ब्रहमर की कुछ दिनों पहले औनलाइन टाइलर नाम के एक शख्स से जान-पहचान बढ़ी बाद में उस शख्स ने खुद को बेहद अमीर बताते हुए उसे 90 लाख यूएस डॉलर देने का वायदा किया लेकिन इसके बदले में उसकी बेस्ट फ्रेंड की डेड बॉडी की फोटो देखने को कहा असल में टाइयर एक फर्जी नाम था इस नाम के पीछे इंडियाना निवासी 21 वर्षीय डेरिन शिल्मिलर था न्यायालय के दस्तावेजों में यह बात जाहिर होती है कि दोनों ने अलास्का में किसी के बलात्कार  मर्डर पर कई तरह की योजना बनाई थी उस दौरान शिल्मिलर ने ब्रहमर को मर्डर  बलात्कार जैसे जघन्य क्राइम के कई वीडियो  फोटोज़ भेजीं

जब ब्रहमर इस क्राइम को अंजाम देने के लिए पूरी तरह से तैयार हो गई तो उसने इस कार्य में चार  लड़कों को शामिल किया इसके बाद सबने मिलकर दो जून को 19 वर्षीय हॉफमैन की मर्डर कर दी

नाबालिगों ने बेहद फिल्मी अंदाज में की मर्डर 
जानकारी के अनुसार यह मर्डर बेहद योजनाबद्ध ढंग से की गई पहले हत्यारी टीम ने बहला-फुसलाकर सिंथ‌िया को अपने साथ पहाड़ चढ़ने के लिए ले गए उन्होंने उसके हाथ पैर बांधे, फिर उसके सिर में पीछे से गोली मारी  उसे नदी में फेंक दिया उसका मृत शरीर चार जून को मिला

12 वर्ष की बच्ची की तरह सोचती थी सिंथ‌िया

स्‍थानीय खबर स्रोतों से मिली जानकारी के मुताबिक सिंथ‌िया के पिता ने बताया कि उनकी बेटी की आयु भले 19 वर्ष थी लेकिन उसका दिमाग अभी उतना विकसित नहीं था वह एकदम से 12 वर्ष की बच्ची की तरह सोचती थी पुलिस ने बताया कि ब्रहमर  16 वर्ष के केडेन मैकलंटोस ने सिंथ‌िया को बहला-फुसलाकर सूनसान स्थान पर बुलाया था

लगातार शिल्मिलर को भेज रहे थे फोटो  वीडियो
अधिकारियों ने बताया कि ब्रेह्मर ने इस सारे घटनाक्रम के दौरान शिल्मिलर को हॉफमैन की स्नैपचैट फोटोज़  वीडियो भेजे

छह के छह आरोपियों को न्यायालय ने ठहराया दोषी
बीते शुक्रवार ग्रैंड ज्यूरी ने सभी छह आरोपियों को प्रथम श्रेणी मर्डर का दोषी ठहराया  इसके साथ ही संबंधित अन्य मामलों में भी इन्हें दोषी पाया गया

Check Also

उत्तराखंड के इतिहास में पहली बार लिखी जा रही इतनी बड़ी एफआईआर, मामला है इस योजना के फर्जीवाड़ा का

उत्तराखंड में गम्भीर बीमारी से ग्रस्त मरीजों को प्रति वर्ष 5 लाख रुपए तक की ...