VIDEO: मुख्यमंत्री योगी के करीबी दलित नेता को सपा प्रवक्ता जूही सिंह ने बताया नींच

लखनऊ. समाजवादी पार्टी की प्रवक्ता जूही सिंह की जुबान जी न्यूज चैनल में बहस के दौरान बुधवार को फिसल गई। नौकरियों की संख्या और सवर्णों को दिए जा रहे आरक्षण के मुद्दे पर जवाब देने को लेकर जूही सिंह ने आम्बेडकर महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष व उत्तर प्रदेश सरकार के मंत्री डॉ, लालजी प्रसाद निर्मल को निम्न स्तर का और कम पढ़ा-लिखा नेता कह कर अपमानित किया। डॉ. लालजी प्रसाद निर्मल को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का करीबी नेता माना जाता है। वह जी न्यूज चैनल पर सरकार और पार्टी का पक्ष रख रहे थे। हालांकि इस मुद्दे पर भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने जूही सिंह से माफी मांगने की अपील की है।

बताया जा रहा है कि बुधवार को जी न्यूज पर 5:30 बजे की बहस में भारतीय जनता पार्टी की ओर से उत्तर प्रदेश सरकार के मंत्री डॉ. लालजी प्रसाद निर्मल और संबित पात्रा पक्ष रख रहे थे। इस दौरान नौकरियों की घटती संख्या और सवर्ण आरक्षण को लेकर जूही सिंह सपा का पक्ष नहीं रख सकी। डॉ. लालजी प्रसाद निर्मल ने जूही सिंह से जैसे ही आरक्षण विरोधी बताया तो उन्होंने पटवार कर डॉ. लालजी प्रसाद निर्मल को निम्न स्तर का नेता कह कर अपमानित किया। इस बहस का लाइव प्रसारण किया जा रहा था।

कौन हैं जूही सिंह

जूही सिंह उत्तर प्रदेश के पूर्व चीफ सिक्रेटरी अखंड प्रताप सिंह की बेटी हैं। अखंड प्रताप सिंह भ्रष्टाचार के मामले में जेल जा चुके हैं। जूही सिंह के पति भी सरकारी सेवा में हैं। जूही सिंह को दो बार सपा ने विधानसभा चुनाव टिकट दिया, लेकिन वह दोनों ही बार हार गईं। पहली बार जूही को वर्ष 2012 में कलराज मिश्रा के खिलाफ टिकट मिला था और दूसरी बार वर्ष 2017 में सपा ने श्वेता सिंह का टिकट काटकर जूही सिंह को दिया था। जूही सिंह दोनों ही बार चुनाव हार गई थीं। चुनाव हारने के बाद सपा ने उन्हें बाल संरक्षण आयोग के चेयरमैन की कमान सौंपी थी। वर्तमान में जूही सिंह सपा में प्रवक्ता हैं।

डॉ. लालजी प्रसाद निर्मल के बारे में

डॉ. लालजी प्रसाद निर्मल आम्बेडकर महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं। उत्तर प्रदेश सरकार ने दलितों के मुद्दे उठाने व उनके जुझारू कार्यों को देखते हुए अनुसूचित जाति वित्त एवं विकास निगम का चेयरमैन बना दिया है। इसके पहले डॉ. निर्मल उत्तर प्रदेश सरकार में अंडर सिक्रेटरी रहे हैं। उन्होंने समाज सेवा के लिए वीआरएस ले लिया था। डॉ. निर्मल की पहल के बाद ही उत्तर प्रदेश के सभी सरकारी और सहकारी कार्यालयों में बाबा साहेब आम्बेडकर की तस्वीर लगाई गई। यह कार्य योगी आदित्यनाथ की सरकार में हुआ। प्रधानमंत्री, राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति समेत तमाम नेताओं से डॉ. निर्मल के मधुर संबंध रहे हैं। उत्तर प्रदेश सरकार के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को उन्होंने दलित मित्र के सम्मान से सम्मानित किया था।

शिक्षा

डॉ. लालजी प्रसाद निर्मल इलाहाबाद विश्वविद्यालय से स्नातक हैं। वह आगरा विश्वविद्यालय से बीएमएस भी कर रहे हैं। पूरे प्रदेश में दलित छात्र-छात्राओं की शिक्षा और रोजगार को लेकर वह मुहिम चला रहे हैं।

Check Also

इन मसलो को उठाने पर,सांसद मनोज तिवारी को मिली जान से मारने की धमकी…

दिल्ली बीजेपी (भाजपा) इकाई के अध्यक्ष व सांसद मनोज तिवारी को जान से मारने की धमकी मिली है। मनोज तिवारी ...