बिहार के बाद अब यूपी के बालिका गृह में सेक्स रैकेट का भंड़ाफोड़, 24 बच्चियां महिलाएं मुक्त…

DDC NEWS AGENCY

देवरिया. उत्तर प्रदेश पुलिस ने देवरिया के स्टेशन रोड पर संचालित बालिका गृह पर रविवार की देर रात छापेमारी की। इस दौरान 24 लड़कियां और महिलाएं मुक्त कराई गई। जिला प्रोबेशन अधिकारी ने एक सप्ताह पूर्व संस्था की संचालिका और अधीक्षिका के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया था।

एसपी रोहन पी कनय ने रात पौने ग्यारह बजे पत्रकार वार्ता कर इस कार्रवाई की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि बालिका गृह से भाग कर आई एक बच्ची ने झाड़ू पोछा कराने का आरोप लगाया था।

5 लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ

उसी आधार पर पुलिस की चार टीमों ने महिला कांस्टेबल के साथ छापेमारी की। संस्था से जुड़े पांच लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है। प्रथम दृष्टया शारीरिक शोषण की बात भी सामने आ रही है।
पूरे मामले की छानबीन की जा रही है। एसपी ने कहा कि संस्था की रिकार्ड के अनुसार यहां 42 लड़कियां और महिलाएं थी। जिसमें से 24 मौके पर मिली हैं। अन्य कहां हैं पता लगाया जा रहा है। इसमें से 21 संस्था के स्टेशन रोड से और तीन रजला से बरामद हुई हैं।

शहर के स्टेशन रोड पर मां विंध्यवासिनी देवी समाज सेवा एवं प्रशिक्षण संस्थान के तत्वावधान में बाल गृह, बालिका गृह एंव शिशु गृह का संचालन होता है। करीब तीन वर्षों से इसे शासन से अनुदान नहीं मिल रहा था। इसका मामला कोर्ट में भी है।

लड़कियों को मुक्त कराने का प्रयास

जिला प्रोबेशन अधिकारी अभिषेक पांडेय ने संस्था को अवैध बताते हुए नोटिस जारी की थी। करीब एक सप्ताह पूर्व उन्होंने पुलिस की मदद से यहां पर रखी गई लड़कियों को मुक्त कराने का प्रयास किया तो संस्था के लोग विरोध पर उतारू हो गए। जिसके बाद टीम को वापस लौटना पड़ा था।

इसके बाद जिला प्रोबेशन अधिकारी ने संस्था की संचालिका गिरिजा त्रिपाठी और अधीक्षिका कंचनलता के खिलाफ कोतवाली में केस दर्ज कराया था। रविवार की रात करीब साढ़े नौ बजे पुलिस ने संस्था पर छापेमारी की। कार्रवाई शुरू होते ही हड़कंप मच गया।

इस दौरान 24 लड़कियों और महिलाओं को मुक्त कराते हुए अपनी कस्टडी में ले लिया। समाचार लिखे जाने तक संस्था की संचालिका गिरिजा त्रिपाठी और उनके पति मोहन त्रिपाठी समेत हिरासत में लिए गए पाचों लोगों से पूछताछ चल रही थी।

फोटो-प्रतीकात्मक।।

Check Also

उत्तराखंड के इस संस्थान ने की सख्ती, आठवीं कक्षा तक के छात्रों के लिए फोन हुआ प्रतिबंधित

देहरादून के एनआइईपीवीडी में पांचवी के छात्र के साथ सीनियर द्वारा कुकर्म का मामला सामने ...