LIVE: बलात्कारी हैं बाबा आसाराम, जोधपुर कोर्ट ने बताया दोषी, सजा का भी एलान !

आसाराम

DDC NEWS AGENCY

New Delhi. जोधपुर की अदालत ने आसाराम के खिलाफ रेप के मामले में फैसला सुना दिया है। कोर्ट ने आसाराम के साथ शिवा उर्फ सवाराम (आसाराम का प्रमुख सेवादार), प्रकाश द्विवेदी (आश्रम का रसोइया), शिल्पी उर्फ संचिता गुप्ता(सेविका), शरदचंद्र उर्फ शरतचंद्र भी दोषी करार दिया है। कोर्ट ने माना है कि आसाराम ने ही नाबालिग से बलात्कार किया था। कोर्ट आज ही सजा का भी ऐलान कर सकता है।

एक किशोरी की शिकायत पर आसाराम हुए थे गिरफ्तार

इस मामले में अंतिम सुनवाई एससी/एसटी की विशेष अदालत में सात अप्रैल को पूरी हुई थी और अदालत ने फैसले को सुरक्षित रखते हुए 25 अप्रैल को सुनाने की बात कही थी। आसाराम को उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर की एक किशोरी की शिकायत पर गिरफ्तार किया गया था।

पीड़िता आसाराम के मध्य प्रदेश के छिंदवाड़ा आश्रम में अध्ययन करती थी। पीड़िता का आरोप था कि आसाराम ने जोधपुर के पास मनाई इलाके में अपने आश्रम में बुलाकर उससे 15 अगस्त, 2013 को रेप किया था।

LIVE UPDATE :

10: 55AM – आज ही हो सकता है सजा का भी ऐलान।

10:40AM- रेप केस में आसाराम को दोषी करार दिया गया।

9:50AM- कोर्ट में आसाराम अपने वकीलों के साथ मौजूद

9:40 AM- जज ने फैसला लिखना शुरू किया, थोड़ी देर में आ सकता है फैसला

9:30 AM- आसाराम केस में गवाह महेंद्र चावला ने कहा, मुझे न्यायपालिका पर पूरा विश्वास है। आसाराम को जरूर सजा मिलेगी। ऐसे रेपिस्ट को फांसी पर लटका देनी चाहिए। मेरी जान को खतरा है। मुझे ज्यादा सुरक्षा की जरूरत है।

9:15 AM-राजस्थान, गुजरात व हरियाणा में किसी भी अवांछित घटना को रोकने के लिए कड़ी सुरक्षा-व्यवस्था की गई है

9:00 AM- फैसला सुनाने के लिए जज मधुसूदन शर्मा कोर्ट पहुंचे।

8:45 AM- वाराणसी में आसाराम के सर्मथकों ने शुरू की पूजा।

8:30 AM- हाथ में फूलों की माला लेकर जोधपुर जेल पहुंचा आसाराम का समर्थक, पुलिस ने हिरासत में लिया।

8:15 AM- जेल के बाहर समर्थकों की भीड़ जुटना शुरू, कुछ समर्थकों को हिरासत में लिया गया।

8:00 AM- रेप केस में आसाराम को हो सकती है अधिकतम 10 साल की सजा

बता दें कि पुलिस की तरफ से जोधपुर हाईकोर्ट में अर्जी लगाकर यह कहा गया था यहां पर राम रहीम पर फैसला सुनाने के बाद पंचकूला की जो स्थिति बनी थी वैसी ही हालत आसाराम को कोर्ट में पेश करने पर हो सकती है। लिहाजा, जेल में ही आसारामर पर फैसला सुनाया जाना चाहिए।

जानिए कब क्या हुआ

– 15 अगस्त 2013 : उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर की एक किशोरी के साथ जोधपुर के मनाई आश्रम में बलात्कार किया गया।
– 19 अगस्त : नई दिल्ली के कमला नेहरू नगर थाने में एफआईआर दर्ज की गई।
– 20 अगस्त : पीड़िता का मेडिकल परिक्षण कराया गया।
– 21 अगस्त : नई दिल्ली से केस जोधपुर स्थानांतरित किया गया।
– 26 अगस्त : आसाराम को समन जारी किया गया।
– 27 अगस्त : लुकआउट नोटिस हुआ।
– 30 अगस्त : आसाराम ने 20 दिन की मोहलत मांगी।
– 30 अगस्त : पुलिस की ओर से डेडलाइन खत्म।
– 31 अगस्त : पुलिस रात 12 बजकर 26 मिनट पर इंदौर आश्रम में घुसी।
– 1 सितंबर 2013 : आसाराम को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया और उन्हें जोधपुर जेल शिफ्ट कर दिया गया।

फोटो-एएनआई से साभार

Check Also

मॉब लिंचिंग से बचने के लिए सरकार ने उठाये ये ठोस कदम…

रुकने का नाम नहीं ले रहा है। लगातार एक के बाद एक हमले हो रहे हैं। मुसलमानों व दलितों ...