GORAKHPUR में दलित छात्र की योगी से गुहार, कोर्ट को भी अनसुना कर रहे प्रोफेसर

GORAKHPUR. YOGI ADITYANATH की सरकार में उनके समर्थकों को भी GORAKHPUR विश्वविद्यालय में उत्पीड़न का शिकार होना पड़ रहा है। हालात ये है कि समाजशास्त्र में शोध कर रहा एक दलित छात्र धरना प्रदर्शन और आमरण अनशन को मजबूर है। – farkindia.org

GORAKHPUR

ताजा मामला YOGI ADITYANATH के संसदीय क्षेत्र रहे GORAKHPUR शहर का है। यहां पर CM योगी के समर्थक एक दलित शोध छात्र को PHD करने से रोका जा रहा है। मामला जब हाईकोर्ट के संज्ञान में आया, तो वहां से भी कोर्ट ने शोध प्रबंधन जमा करने का आदेश दे दिया, लेकिन इसके बाद भी कोर्ट के आदेश को दरकिनार कर शोध प्रबंधन जमा नहीं किया जा रहा है।

जानकारी के मुताबिक, संजय कुमार सारस्वत गोरखपुर विश्वविद्यालय में समाजशास्त्र के शोध छात्र हैं। गाइड प्रो. शफीक अहमद अंसारी ने मनमानी करते हुए दलित शोध छात्र को शोध प्रबंधन जमा करने से रोक दिया। छात्र को परेशान करने के लिए शफीक ने कोर्ट के आदेश को भी दरकिनार कर दिया। अब छात्र अनशन करने को मजबूर है।

उत्पीड़न का सामना कर रहे शोध छात्र संजय कुमार सारस्वत का कहना है कि दलित छात्र होने की वजह से शफीक अहमद अंसारी उन्हें परेशान कर रहे हैं। यदि सुनवाई नहीं हुई, तो लखनऊ पहुंचकर सीएम योगी आदित्यनाथ मिलकर पूरे मामले को उनके संज्ञान में लाया जाएगा।

GORAKHPUR यूनिवर्सिटी के दलित छात्र का उत्पीड़न क्यों

गोरखपुर विश्वविद्यालय में समाजशास्त्र के प्रो. शफीक अहमद अंसारी की मनमानी की वजह से एक शोध छात्र का कैरियर तबाह हो रहा है। 4 अगस्त वर्ष 2014 से दलित शोध छात्र को शोध प्रबंधन नहीं जमा करने दिया जा रहा है। फीस जमा करने के बाद भी उस रोका गया। यहां तक कि शोध न जमा होने के मामले को कोर्ट ने भी जब सुनवाई की तो प्रोफेसर को आदेश दिया कि चार दिनों में शोध प्रबंधन जमा करें। अभी दो दिन शेष है, लेकिन यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर शफीक अहमद अंसारी मनमानी पर उतर आए हैं।

रोहित बेमुला जैसे मामलों की भरमार

गौरतलब है कि बहुजन छात्र रोहित बेमुला शोध छात्र था। उसने संस्थान के उत्पीड़न से परेशान होकर खुदकुशी कर ली थी। इस मामले की गूंज पूरे देश ही नहीं विदेशों में सुनाई दी। इसके बाद हाल ही में इलाहाबाद में शोध कर रहे छात्र परमानंद यादव ने भी गाइड की बदमाशी की वजह से परेशान होकर खुदकुशी कर ली थी। ऐसे मामलों में बहुजन छात्रों को इस लिए परेशान किया जाता है, जिससे वह उच्च शिक्षा ग्रहण न कर पाएं। उनकी पीएचडी रुक जाए।

 

Report First

Check Also

योगी: गायों की मौतों पर अधिकारियों को किया गया…

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बड़ी संख्या में गायों की मृत्यु के मुद्दे को गंभीरता से लिया है. उन्होंने अयोध्या और मिर्जापुर के ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *