भर्ती परिक्षाओं में गड़बड़ियों को लेकर योगी सरकार ने लिए ये 10 बड़े फैसले !

Lucknow. उत्तर प्रदेश सरकार ने राज्य में होने वाली भर्ती परीक्षाओं में गड़बड़ियां रोकने के लिए नीति तय कर दी है। पेपर लीक से बचने के लिए यूपी से बाहर की प्रिंटिंग प्रेस में ही पेपर छपना अनिवार्य होगा। प्रेस चारों ओर से CCTV कैमरों से घिरी हो। सुरक्षा के पूरे इंतजाम हों। साथ ही कोई काम या कर्मचारी आउटसोर्सिंग का न हो। बाहरी व्यक्ति का प्रवेश प्रतिबंधित हो। मोबाइल फोन व कैमरा आदि ले जाने पर रोक हो।

योगी सरकार

1. रेंडम बेसिस पर परीक्षा केंद्रों का आवंटन
इस संबंध में अपर मुख्य सचिव नियुक्ति एवं कार्मिक मुकुल सिंहल ने मंगलवार को आदेश जारी कर दिया है। आदेश में स्पष्ट कहा गया है कि संदेहात्मक विद्यालयों और संस्थानों को भर्ती परीक्षा के लिए केंद्र न बनाया जाए। साथ ही रेंडम बेसिस पर परीक्षा केंद्रों का आवंटन करें, जिससे एक ही स्थान के परीक्षार्थी एक ही परीक्षा केंद्र पर बैठकर परीक्षा न दे सकें। .

2. कैमरे लगे परीक्षा केंद्रों हों
प्रदेश सरकार ने भर्ती परीक्षा केंद्रों का चयन करने के लिए मानक तय किए हैं। इनके चयन में सावधानी जरूरी होगी। इसके चयन में जिला प्रशासन का योगदान लिया जाए। परीक्षा केंद्र के लिए यह अनिवार्य कर दिया गया है कि उसकी बाउंड्रीवाल हो और बंद करने वाला गेट लगा हो। परीक्षा केंद्र में सभी परीक्षा कक्षों में प्रकाश और पंखों की समुचित व्यवस्था हो। सभी परीक्षा कक्षों में CCTV कैमरे लगे हों।

3. पानी, शौचालयों और बिजली की अच्छी व्यवस्था
फर्नीचर, पीने के पानी, शौचालयों और बिजली की वैकल्पिक व्यवस्था हो। परीक्षा केंद्र पर प्रश्नपत्र रखने के लिए CCTV कैमरे युक्त एक अलग कक्ष हो।

4. परीक्षार्थियों का सामान रखने की व्यवस्था हो
परीक्षार्थियों के बैग, मोबाइल रखने की व्यवस्था हो। परीक्षा केंद्र का पिछला रिकार्ड देखा जाए। केंद्र पर तलाशी की व्यवस्था की जाए।

5. महिलाओं की तलाशी महिलाएं लें
महिलाओं के लिए महिलाएं ही तलाशी लें। परीक्षा केंद्र की बस स्टैंड, रेलवे स्टेशन आदि से दूरी, परीक्षार्थियों की बैठने की क्षमता, कार्मिकों की संख्या, सड़क की स्थिति जैसे मानकों का भी ध्यान रखा जाए।

6. संयुक्त कमेटी करेगी परीक्षा केंद्रों का चयन
परीक्षा केंद्रों का चयन संयुक्त कमेटी करेगी। परीक्षा केंद्रों (एबीसीडी) का निर्धारण डीएम की अध्यक्षता में कमेटी करेगी। जिसके सदस्य एसएसपी, उच्च शिक्षा व तकनीकी शिक्षा के अधिकारी, एनआईसी के अधिकारी व डीआईओएस सदस्य होंगे। कमेटी यह भी देखेगी कि केंद्र की दूरी ज्यादा न हो।

7. परीक्षा के कक्ष निरीक्षकों को परीक्षा से एक दिन पहले कक्ष निरीक्षक नहीं बनाया जाएगा। परीक्षा से कुछ समय पहले ही उन्हें यह जिम्मेदारी दी जाएगी।

8. पेपर का अतिरिक्त सेट रहे
प्रश्नपत्र बनाते समय इस बात का ध्यान रखा जाए कि जरुरत पड़ने पर अतिरिक्त सेट उपलब्ध रहे। उत्तरों के विकल्प भी मल्टिपल सेट में रहें जिससे नकल की गुंजाइश से बचा जा सके। आब्जेक्टिव टाइप प्रश्नपत्रों के संबंध में ओएमआर सीट की तीन प्रतियां रखी जाएं जिससे एक प्रति सुरक्षित रखी जा सके और एक प्रति परीक्षार्थी को दी जा सके। कोषागार से परीक्षा केंद्र तक प्रश्नपत्र मजिस्ट्रेट व पुलिस सुरक्षा में भेजे जाएं। स्टील ट्रक में भेजे जाएं और उसमें डिजिटल लाक हो।

9. आदेश की अन्य खास बातें
परीक्षाओं की शुचिता बरतने के लिए प्रमुख सचिव गृह की अध्यक्षता में डीजीपी सहित संबंधित विभाग के प्रमुख सचिव की अध्यक्ष में कमेटी बनाई जाए।

10. एजेंसी के चयन में खास सतर्कता बरती जाए
यूपी लोक सेवा आयोग प्रयागराज और यूपी अधीनस्थ सेवा चयन आयोग सहित सभी आयोगों और बोर्डों से कहा गया है कि परीक्षा कराने की एजेंसी के चयन में खास सतर्कता बरती जाए। संदेहात्मक एजेंसी को यह काम न सौंपा जाए।

Check Also

अजिंक्‍य रहाणे

3 साल बाद रहाणे ने की ऐसी बल्लेबाजी, टीम इंडिया की टेंशन दूर हुई !

डेस्क. टीम इंडिया के उपकप्‍तान अजिंक्‍य रहाणे को पिछले काफी समय से अपने खराब प्रदर्शन ...